Great Himalayan National Park

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले में स्थित है और 1171 वर्ग किमी क्षेत्र में फैला है। यह समुद्र तल से लगभग 1500 मीटर की ऊँचाई से शुरू होकर 6000 मीटर की ऊँचाई तक फैला है। इसलिए अनगिनल पशु-पक्षियों और पेड़-पौधों का ठिकाना है।

यह एक विश्व विरासत स्थल भी है, जिसे यूनेस्को ने 2014 में यह दर्जा दिया।

ग्रेट हिमालय नेशनल पार्क में चार मुख्य घाटियाँ हैं:

  1. तीर्थन घाटी
  2. सैंज घाटी
  3. जीवा नाला
  4. पार्वती घाटी

इन सभी घाटियों में ट्रैकिंग की जाती है। असल में ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क ट्रैकिंग के लिए ही प्रसिद्ध है, क्योंकि पार्क में सड़कें नहीं हैं और कोई सफारी आदि नहीं होती है। आप अनुमति लेकर गाइड और पॉर्टर की सहायता से पूरे नेशनल पार्क में ट्रैकिंग कर सकते हैं। अनुमति के लिए कार्यालय साईरोपा (तीर्थन वैली) और रोपा (सैंज वैली) में हैं।

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क (GHNP) कैसे पहुँचें?

यदि आपको तीर्थन वैली में ट्रैकिंग करनी है, तो गुशैनी पहुँचना होगा। यदि आप सैंज वैली या जीवा नाला की घाटी में ट्रैकिंग करना चाहते हैं, तो आपको सैंज पहुँचना होगा। गुशैनी और सैंज दोनों ही स्थानों का रास्ता औट से अलग होता है, जो मंडी और कुल्लू के बीच में स्थित है। कुल्लू व औट दोनों ही स्थानों से गुशैनी व सैंज के लिए पूरे दिन नियमित बसें चलती हैं।
यदि आप पार्वती वैली में ट्रैकिंग करना चाहते हैं, तो इसका रास्ता भुंतर से शुरू होता है और मणिकर्ण होते हुए जाता है। मणीकर्ण से आगे बरशैणी तक सड़क बनी है, उसके बाद ट्रैक शुरू होता है।

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क (GHNP) में कहाँ ठहरें?

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क में न के बराबर जनसंख्या निवास करती है। सैंज वैली में दो गाँव ऐसे हैं, जो नेशनल पार्क के अंदर हैं, लेकिन बाकी पूरे नेशनल पार्क में एक भी गाँव नहीं है। इसलिए आपको अपने साथ टैंट, स्लीपिंग बैग और राशन ले जाना पड़ेगा। इनकी व्यवस्था गुशैनी और सैंज से आसानी से हो जाएगी। गुशैनी और सैंज में ठहरने के लिए अच्छी व्यवस्था है।

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क जाने का सर्वोत्तम समय?

मई से अक्टूबर

ग्रेट हिमालयन नेशनल में मुख्य ट्रैकिंग रूट:

  1. गुशैनी से रोला – 2 दिन, 20 किमी
  2. गुशैनी से रखुंडी टॉप – 5 दिन, 56 किमी
  3. तीर्थन नदी के उद्‍गम स्थल तीरथ का ट्रैक – 7 दिन, 76 किमी
  4. सैंज नदी के उद्‍गम स्थल रक्तिसर का ट्रैक – 7 दिन, 92 किमी
  5. ढेल पास ट्रैक (तीर्थन वैली से सैंज वैली) – 6 दिन
  6. खंडाधार ट्रैक (सैंज वैली से जीवा नाला होते हुए पार्वती वैली) – 7 दिन

आप ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क के बारे में कुछ भी जानना चाहते हैं, तो हमें बताएँ:

Open chat
%d bloggers like this: