हिमाचल प्रदेश में मंडी जिले में मंडी से 50 किलोमीटर दूर पराशर झील स्थित है। यह समुद्र तल से 2600 मीटर ऊपर है। झील के पास पराशर ऋषि का मंदिर बना है। झील का मुख्य आकर्षण इसमें तैरता एक टापू है। यहाँ से आपको चारों तरफ का 360 डिग्री नजारा देखने को मिलता है। धौलाधार, पीर पंजाल और महाहिमालय के बर्फीले पर्वत बहुत नजदीक दिखाई देते हैं।

पराशर झील कैसे पहुँचें?

पराशर झील मंडी से 50 किमी, कुल्लू से 65 किमी, शिमला से 200 किमी, चंडीगढ़ से 250 किमी और दिल्ली से 500 किमी की दूरी पर है। आप अपनी गाड़ी से मंडी, कमांद और बागी होते हुए पराशर झील तक पहुँच सकते हैं।

आप ट्रैकिंग करके भी झील तक पहुँच सकते हैं। इसके लिए 3 ट्रैक मुख्य हैं:

  1. बागी से
  2. पंडोह से
  3. पनारसा से (मंडी-कुल्लू मुख्य मार्ग पर)

ये सभी ट्रैक एक ही दिन में किए जा सकते हैं। रास्ता अच्छा बना है।

पराशर झील के पास कहाँ ठहरें?

आप मंदिर की सराय में ठहर सकते हैं। बस, पुजारी से मिलिए और वह आपको गद्दे व कंबल दे देगा।

झील के पास ही वन विभाग का रेस्ट हाउस भी है।

आप अपने टैंट भी लगा सकते हैं।

पराशर झील के आसपास कहाँ जाएँ?

पराशर झील जाने का सर्वोत्तम समय:

पूरे साल में कभी भी। सर्दियों में यहाँ बर्फ भी पड़ती है। कई बार सड़क मार्ग बंद हो जाता है, लेकिन आप स्नो ट्रैकिंग करके जा सकते हैं।

पराशर झील के आसपास:

आप 5 किमी दूर तुंगा माता का ट्रैक कर सकते हैं। तुंगा माता का मंदिर समुद्र तल से 3000 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है।

आप पराशर झील के बारे में कुछ भी जानना चाहते हैं, तो हमें बताएँ:

Open chat
%d bloggers like this: