कच्छ ट्रिप (08-12 जनवरी 2020) - 5 Days

Rann Mahotsav 2020

कच्छ अर्थात भारत का एक अनोखा स्थान जहाँ सर्दियों में समुद्र सूख जाता है और सैकड़ों किलोमीटर तक नमक के विशाल मैदान बन जाते हैं। इन मैदानों को “रण” कहा जाता है – कच्छ का रण। लेकिन कच्छ में रण के अलावा भी बहुत कुछ है, जिसे हम आपको इस यात्रा में दिखाने वाले हैं।

दिनांक: 08 से 12 जनवरी 2020

स्थान: भुज से भुज

खर्च: 13999 रुपये प्रति व्यक्ति

(20 नवंबर 2019 से पहले बुकिंग कराने पर 500 रुपये प्रति व्यक्ति की छूट…)

इसमें शामिल है:

  • रात्रि विश्राम: 2 रात भुज, 1 रात नखत्राणा, 1 रात धोरडो (ग्रेट रण)
  • 4 ब्रेकफास्ट, इवनिंग स्नैक्स (दाबेली) और 4 डिनर
  • पूरी ट्रिप के लिए वातानुकूलित कैब/बस
  • ग्रेट रण का प्रवेश शुल्क
  • GST (5%)

शामिल नहीं है:

  • बस अड्डे, रेलवे स्टेशन या एयरपोर्ट से होटल ट्रांसफर
  • लंच
  • संग्रहालयों का प्रवेश शुल्क
  • ग्रेट रण में कोई भी एक्टिविटी; जैसे कैमल सफारी आदि
  • टिप और कोई भी व्यक्तिगत खर्च
  • कोई भी मेडिकल और आपातकालीन खर्च

रिफंड पॉलिसी

  1. ट्रिप शुरू होने से 30 दिन पहले कैंसिल करने पर: 90% रिफंड।
  2. 30 से 5 दिन के अंदर कैंसिल करने पर: 50% रिफंड।
  3. इसके बाद कोई रिफंड नहीं।
  4. GST का रिफंड नहीं मिलेगा।

अधिक जानकारी के लिए 7042064959 पर Whatsapp कर सकते हैं।

Day 1
8 जनवरी 2020: भुज आगमन

आपको होटल का नाम बता दिया जाएगा। होटल में अपने-अपने समयानुसार चेक-इन और थोड़ा आराम करने के बाद भुज शहर के दर्शनीय स्थानों की यात्रा करेंगे। हमीरसर झील के किनारे बैठकर सूर्यास्त देखेंगे।

भोजन: इवनिंग स्नैक्स – भुज की गलियों की दाबेली खाएँगे, डिनर – होटल में

रात्रि विश्राम: भुज

Day 2
9 जनवरी 2020: भुज-मांडवी-भुज

आज कच्छ के एक शानदार बीच मांडवी जाएँगे। मांडवी के दर्शनीय स्थानों को देखने और बीच पर समय बिताने के बाद भुज लौट आएँगे।

भोजन: ब्रेकफास्ट – भुज की गलियों में स्ट्रीट फूड, इवनिंग स्नैक्स – दाबेली, डिनर – होटल में

रात्रि विश्राम: भुज

Day 3
10 जनवरी 2020: भुज-लखपत-नारायण सरोवर-नखत्राणा

आज हम भारत के सबसे पश्चिमी किनारे पर जाएँगे। लखपत उस स्थान पर है जहाँ समुद्र रण बनना शुरू होता और यह दलदली क्षेत्र है। नारायण सरोवर एक धार्मिक स्थान है और इसकी गिनती देश के पाँच पवित्र सरोवरों में की जाती है।

भोजन: ब्रेकफास्ट – भुज की गलियों में स्ट्रीट फूड, इवनिंग स्नैक्स – दाबेली, डिनर – होटल में

रात्रि विश्राम: नखत्राणा

Day 4
11 जनवरी 2020: नखत्राणा-छरी डांड-फॉसिल पार्क-धोरडो

छरी डांड एक वेटलैंड है, जिसकी गिनती भारत के अच्छे वेटलैंड में होती है। यहाँ सर्दियों में बड़ी संख्या में प्रवासी पक्षी आते हैं। पास में ही फॉसिल पार्क और थान मठ है। थान मठ एक भुतहा स्थान है। यहाँ आपको दिन में भी डर लग सकता है।

और शाम को हम पहुँचेंगे कच्छ के उस स्थान पर, जिसके लिए यह जाना जाता है – कच्छ का रण। यहाँ पर सूर्यास्त देखना Once in a lifetime अनुभव है।

भोजन: ब्रेकफास्ट – होटल में,, इवनिंग स्नैक्स – दाबेली, डिनर – होटल में

रात्रि विश्राम: धोरडो

Day 5
12 जनवरी 2020: धोरडो-काला डूंगर-इंडिया ब्रिज-भुज

यूँ तो कच्छ के रण से आपका कभी भी मन नहीं भरेगा, लेकिन चलना तो पड़ेगा ही। आज हम पहले जाएँगे काला डूंगर। यह संपूर्ण कच्छ की सबसे ऊँची पहाड़ी है और इसे मैग्नेटिक हिल भी कहा जाता है। इसके बाद हम जाएँगे इंडिया ब्रिज तक। आम नागरिकों को केवल यहीं तक जाने की अनुमति है।

और दोपहर बाद वापस भुज पहुँचकर अलविदा कह देंगे।

भोजन: ब्रेकफास्ट – होटल में, और दाबेली खाने का कोई समय नहीं होता

You can send your inquiry via the form below.

Trip Facts

  • 5
  • गुजरात
Open chat